Posted in My Music

Aao Aao


Ok..Here comes another composition – Collaboration with Sunil Sapra, whose lyrics continue to inspire me.

Original Music and Vocals – Ganpy

Lyrics (By Sunil Sapra):

सपने 

आओ कुछ सपने बोते हैं…

जैसा जग हम सोचते हैं
जैसा जग हम चाहते हैं
वो सच से बहुत दूर है
और राह कठिन ज़रूर है

उस राह पर कभी,
साथी भी अपने खोते हैं.
आओ कुछ सपने बोते हैं…

सच और सपने के बीच का
समय है भैया बड़ा निराला
उसे परीक्षा कहते हैं
बड़ा कड़वा उसका निवाला

परीक्षा के डर से कभी,
क्या हौसले रोते हैं.
आओ कुछ सपने बोते हैं…

परीक्षा है हर श्वास की
हर आम की, हर ख़ास की
हताशा की, उल्लास की
उस अडिग विश्वास की

विश्वास हो गर खुद पर,
सपने भी सच होते हैं.
आओ कुछ सपने बोते हैं…

Advertisements

Author:

Besides fantasizing about being a Peter Gibbons at least for a couple of days at my work, I think I have a long way to go to realize some of the other fantasies. But like any ambitious man out there, I will get there! Note: All views expressed in this blog are mine alone and have got nothing to do with my company Cogent IBS, Inc., its employees or any of its affiliates.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s